Sunday 7 December 2008

तेरे ख्यालो से

तेरे खयालो से महकी सी मेरी तन्हाई है
मुझे हर आहट पे लगे शायद मिलने तू आयी है


है ये लहराती ठंडी हवा या आँचल उड़ता तेरा
खुशबु तेरी हर सूँ छाई है ....................

अय हँसी
तू ही मेरी साँसों में है घुली तू ही मेरी आंखों में है बसी मेहरून महजबीं
सच तो ये है के देखू कही लगता है मुझको तू है वही
रंग है जितने तू ही लाई है ..............................

No comments: