Thursday 13 November 2008

शिकायत भी बहुत है

शिकवे भी बहुत है शिकायत भी बहुत है
इस दिल को मगर उनसे मोहब्बत भी बहुत है
आ जाते है मिलने वो तसव्वुर में हमारी
एक शख्स की इतनी सी इनायत भी बहुत है

No comments: