Friday 16 April 2010

एक जन्म और

तुम किसी अन्य जन्म में मिलना
मैं भी इन्तजार करूंगा 
पर इस जन्म की तरह मत मिलना
जिसमे तुम्हारा मुझसे मिलना तो क्या
मेरे सपनो में आना भी वर्जित है
खैर .......................
कोरे कागज़ पर कविता लिख देना 
कोरी शिकायत नहीं होती
रंज भी होता है
फालतू के मोह पर 
खामखाँ की गई मोहब्बत पर
या बहूत किये गए किसी निर्मोही के इंतज़ार पर 
फिर भी मिलना तो ऐसे जन्म में मिलना 
जिसमे अँधेरी रातों में से हौसलों के लिए 
जुगनू उदाहरण ना बने
आँखों में आये पानी के लिए 
अपने अजीज कारन ना बने
वैसे भी ..........
पैरो की काबिलियत का सबूत 
मंजिले नहीं राहे देती है
सो किसी और जन्म में मिलने की 
किसी से आसीस भी मांगना
तो मंजिल पर पहुचने की नहीं
राहों में सलामती की मांगना

No comments: