Saturday 20 February 2010

मुलाकात

जाने हमको यह मुलाकात कहा ले जाये
बातों बातों में कोई बात कहा ले जाए
जिस्म को काट के आँखों में थमा हैं पानी
देखिये दर्द की यह बरसात कहा ले जाए
उनकी महफ़िल ही नहीं शहर में मकतल भी हैं
क्या खबर गर्दिशे हालात कहा ले जाये
तुम मेरे ख्वाब संभालो तो सफ़र पे निकलू
इस कदर बोझ कोई साथ कहा ले जाए
हम भी एक उम्र गवांकर जिन्हें हल न कर सके
जिंदगी अब वह सवालात कहा ले जाये
जिन्दगी गर्म हवाओ का सफ़र ही दोस्त
कोई यह फूल से जज्बात कहा से ले जाये

No comments: